cyber sequrity

साइबर क्राइम से खुद को बचाने के 6 तरीके | Hacker से कैसे बचे?

✔️ साइबर क्राइम से खुद को बचाने के 6 तरीके। Hacker से कैसे बचे? आज यहां पर देखेंगे कि किस प्रकार हम अपने आप को साइबर क्राइम से बचा सकते हैं। आपको कुछ ऐसे टिप्स दिए गए हैं जिसका इस्तेमाल कर आप अपने आपको किसी भी साइबर क्राइम से बचा सकते हैं।

जब आप ज्यादातर टाइम ऑनलाइन काम करते हैं तो उस समय आपको cyber security से जुड़ी बहुत सारी बातों का ध्यान रखना चाहिए। अगर आपने लापरवाही की तो आपकी महत्वपूर्ण जानकारियां किसी और तक पहुंच सकती है।

✔️ यहां कुछ बुनियादी सावधानियां बताई गई हैं, जिनका उपयोग करके इंटरनेट पर आप सभी को साइबर अपराध से खुद को बचाना चाहिए।

 1. मजबूत पासवर्ड का उपयोग करें।

 ➡️ हम सभी एक ही गलतियों को दोहराते हैं और हम हर जगह एक ही पासवर्ड का उपयोग करते हैं। सबसे ज्यादा हम ऐसे passward का use करते है जैसे कि किसी बच्चे के जन्म की तारीख, शादी की वर्षगांठ, और इसी तरह हम घर के किसी भी व्यक्ति का नाम उपयोग करते है। जन्म तिथि या नाम का पता लगाना बहुत आसान है। आपका पासवर्ड सबसे अलग और unique होना चाहिए। जब भी आप पासवर्ड क्रिएट करें तब आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

🔶 आपके पासवर्ड में कम से कम 8 characters शामिल होने चाहिए

🔶  ऐसे words का इस्तेमाल करें जिसका कोई भी मतलब नहीं होता तथा इन शब्दों  को याद रखना भी आपके लिए आसान हो।

🔶आपको capital letter और small letter का भी उपयोग करना चाहिए।

🔶 आपको अलग-अलग symbols का भी उपयोग करना चाहिए जैसे कि &,#,@,₹,*  आदि।

🔶 अब आपको इन तीनों का यूज कर अपने पासवर्ड को बनाना चाहिए

🔶Example के लिए ✔️ @Mjkol-790*$

✔️आप कुछ इस प्रकार अलग-अलग letter, symbols और numbers का उपयोग कर एक strong पासवर्ड बना सकते हैं और ऐसे पासवर्ड बनाइए जिन्हें आप आसानी से याद कर सकते है ।

आप चाहे तो पासवर्ड को किसी डायरी में लिख सकते हैं। हो सकता है कि आप कभी भूल भी जाए तो आप अपनी डायरी से इन पासवर्ड को आसानी से पा सकते हैं। 

 2. अपने सॉफ़्टवेयर को अपडेट रखें।

 ➡️ हमें अपने सॉफ़्टवेयर को मोबाइल उपकरणों या डेस्कटॉप पर नियमित रूप से अपडेट करना चाहिए। क्योंकि साइबर अपराधी अक्सर हमारे सिस्टम में प्रवेश करने के लिए हमारे सॉफ़्टवेयर में गलतियों को ढूढते रहते है ।

➡️ ज्यादातर सॉफ्टवेयर कंपनियां अपने सॉफ्टवेयर को महीने में, साल भर में अपडेट करती रहती हैं। अगर आप अपडेटेड सॉफ्टवेयर को यूज करते हैं तो उसमें बहुत सारी सिक्योरिटी फीचर् आप को मिल जाती है। जिस वजह से किसी भी हैकर को उस सॉफ्टवेयर को हैक करना मुश्किल हो जाता है।

➡️ जब भी आप अपडेटेड सॉफ्टवेयर यूज करते हैं तो उसमें  बहुत सारे बदलाव देखने को मिल सकते हैं। लेटेस्ट अपडेटेड सॉफ्टवेयर का use करना और भी ज्यादा आसान हो जाता है पिछले सॉफ्टवेयर से। 

➡️ अगर आप कोई भी एप्लीकेशन यूज करते हैं अपने मोबाइल फोन में तो महीने 2 महीने पर आप प्ले स्टोर पर जाकर के updated version का इस्तेमाल करें। और अपने एप्लीकेशन को अपडेट करते रहे।

ऐसा करने से आपकी सिक्योरिटी जो होती है वह बढ़ जाती है और हैकिंग के खतरे बहुत भी कम हो जाते हैं। 

3. एंटीवायरस प्रोग्राम  का इस्तेमाल करें

 ➡️ एंटीवायरस प्रोग्राम का उपयोग करना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि वे हमें वायरस जैसे मैलवेयर से बचाने और उन्हें हमारे computer से हटाने में मदद करते हैं। यह हमारी जानकारी की सुरक्षा भी कर सकता है। आपको अपने कंप्यूटर तथा लैपटॉप मे एंटीवायरस प्रोग्राम को इंस्टॉल करके रखना चाहिए। जब भी आप अपने कंप्यूटर में एंटीवायरस प्रोग्राम को पहले से इंस्टॉल करके रखते हैं। तो अपके कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर की सिक्योरिटी बढ़ जाती है।  

➡️ अगर कोई भी वायरस अटैक होता है आपके पीसी पर यह एंटीवायरस प्रोग्राम आपके कंप्यूटर की सुरक्षा करने के लिए कार्य करते हैं। और किसी भी प्रकार के वायरस को कंप्यूटर के अंदर आने की इजाजत नहीं देते है। 

➡️ कभी ऐसा भी होता है जब आप किसी भी सॉफ्टवेयर को अपने पीसी के अंदर डाउनलोड करते हैं तो एंटीवायरस प्रोग्राम उस सॉफ्टवेयर की पूरी जांच करते है और अगर कोई वायरस उस प्रोग्राम के अंदर होगा तो आपको सिक्योरिटी के लिए अलर्ट करते हैं।  इस प्रकार आप अपने कंप्यूटर को सिक्योर कर सकते हैं एंटीवायरस प्रोग्राम का यूज करके।  

 4.Encription और अपने डेटा का बैकअप लें

 ➡️ आपके फ़ोन और पीसी पर संग्रहीत डेटा को एन्क्रिप्ट करना हमेशा बेहतर होता है। अधिक बैकअप रखना अच्छा है, इस तरह हम किसी भी virus attack के मामले में कोई डेटा नहीं खोएंगे। बैकअप नियमित रूप से किया जाना चाहिए।

➡️ जब भी आप अपने डेटा का बैकअप लेते हैं इससे क्या होता है कि आपके जो भी data होते हैं वह और भी ज्यादा सिक्योर हो जाते हैं। आपको अपने मोबाइल फोन में अपने डाटा का बैकअप लेते रहना चाहिए। अगर आपकी वेबसाइट है तो आपको अपनी वेबसाइट को भी सिक्योर रखने के लिए अपनी वेबसाइट के data का भी बैकअप लेते रहना चाहिए। 

 5. सुरक्षित वेबसाइटों का उपयोग करें

 ➡️ आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली वेबसाइट “https” से शुरू होनी चाहिए। https का मतलब है कि हमारा डेटा एन्क्रिप्ट किया गया है।  इस तरह हमारे पास एक सुरक्षित कनेक्शन होगा। 

जैसे कि आप  हमारे वेबसाइट के लिंक को देख सकते हैं  जिसमें ✔️ https://www.infotalk.in है। 

इस तरह अगर किसी website के लिंक होते है तो आप जान सकते है कि ये website secure है। आप इस website का इस्तमाल कर सकते है।

 ➡️ एक विश्वसनीय वेबसाइट कभी हमसे पासवर्ड नहीं मांगेगी। जब भी आप किसी भी website पर sign up करें तो कभी भी अपने Gmail का original password उपयोग ना करे। 

➡️ कभी भी unsecure website को अपने browser पर मत open करें इससे आपको नुक़सान हो सकता है। अगर आपको लगता है कि ये website सही नहीं है तो आपको उस website को use नहीं करना चाहिए। 

 कभी-कभी हैकर data को  ट्रैक करने के लिए तथा आपके कंप्यूटर पर वायरस छोड़ने के लिए ऐसी वेबसाइट भी बनाते हैं  जिसमें बहुत सारे वायरस होते हैं। अगर आप इनके वेबसाइट के द्वारा दिए गए किसी भी लिंक पर क्लिक करते हैं और इनके वेबसाइट से कुछ डाउनलोड करते हैं तो उसमें बहुत सारे वायरस हो सकते हैं। उसमें कुछ ऐसी भी फाइलें होंगी जो वायरस से भरी होंगी। अगर आप इसे डाउनलोड करते हैं तो आपके कंप्यूटर में यह वायरस आ जाएंगे। जिस कारण आपके कंप्यूटर को बहुत ज्यादा नुकसान हो सकता है।

 6. Bank account की जानकारी निजी रखें।

 ➡️ ऑनलाइन फॉर्म में किसी भी प्रकार की व्यक्तिगत जानकारी दर्ज न करें। ये फॉर्म अक्सर वास्तविक लगते हैं लेकिन वास्तव में धोखेबाजों द्वारा पैसे लेने या आपकी पहचान चोरी करने के लिए बनाए जाते हैं। इसलिए अगर आपसे कोई भी अनजान website या फिर कोई व्यकित आपसे आपके account से जुड़ी कोई भी जानकारी मांगे तो आप इन्हे कभी ना दे। 

➡️ अगर आप किसी website पर जा कर उनसे कोई Program या फिर कोर्सेज को खरीदते है तो आपको उस website के बारे में जानकारी लेनी चाहिए और उसके बारे में सही जानकारी हासिल करने के बाद ही उस पर भरोसा करे है।

➡️ आजकल तो ऐसे कई online website है जिन पर कई product sell किए जाते है इनमें से कोई froud website भी हो सकती है। इसलिए सतर्क रहे इनसे। आपसे प्रोडक्ट के पैसे ले लेंगे और आप तक प्रोडक्ट भी नहीं पहुंचाते है। 

🔶 Conclusion

आज के टाइम में अगर आप किसी भी ऑनलाइन froud से बचना चाहते है तो आपको हमेशा सतर्कता बरतनी होगी। अपने डेटा को secure करके रखे। अपनी बैंक की detail कभी नहीं बताएं। साथ ही अपने सॉफ्टवेयर और ऐप को update करते रहे। Unsecure website का इस्तमाल ना करे। किसी भी unknown website से कोई भी प्रोडक्ट ना खरीदे। एक ही passward का use बार बार ना करे। आपके पास कम से कम 2 email होना चहिए। एक email का उपयोग regular करें तथा दूसरे email का use अपने professional काम के लिऐ करें।

🔶 अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप हमें comment में जरूर बताए। अगर आप ऐसे और भी महत्त्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना है तो आप हमारे website को subscribe करें। आप इस जानकारी को अपने दोस्तो तक ज़रूर शेयर करे।

read more..

Artificial intelligence क्या है? और क्या AI हमारे लिए खतरा है

Affiliate Marketing क्या है? सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

Share on

Leave a Reply