about maa in hindi

About Maa in Hindi | मेरी माँ पर निबंध जाने, माँ की शिक्षा, प्रेरणा

माँ की ममता का कोई मोल नहीं होता। माँ ममता तथा दया की एक मूरत होती है। माँ सदैव अपने बालक को आगे बढ़ते हुए ही देखना चाहती है। वह अपना सब कुछ अपने नन्हे से बालक के ख़ुशी के लिए बलिदान कर देती है। जो कुछ माँ दे सकती वह सायद कोई भी इस संसार में नहीं दे सकता है।

माँ का रिश्ता संसार का सबसे बेहतरीन रिश्ता होता है

माँ हमें केवल इस संसार में ही नहीं लती, बल्कि माँ  हमें जन्म देने के साथ – साथ ही हमारा लालन-पालन भी करती हैं। माँ का अपने बालक के प्रति जो रिश्ता होता है वह संसार का सबसे बेहतरीन रिश्ता होता है। 

माँ के इस रिश्तें को दुनियां में सबसे अधिक सम्मान दिया जाता है। संसार में जीवनदायनी और सबसे सम्माननीय तो माँ ही है। माँ को संज्ञा दी गयी है जैसे कि भारत माँ, धरती माँ, पृथ्वी माँ, प्रकृति माँ, गौ माँ आदि। 

इसके साथ ही माँ को प्रेम और त्याग का प्रतिमूर्ति भी माना गया है। इतिहास में कई सारी ऐसी घटनाओं के वर्णन से भरा पड़ा हुआ है। जिसमें सभी माताओ ने अपने संतानों के लिए अनेक प्रकार के दुख सहते हुए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया। माता हमेशा अपने पुत्र को खुश देखना चाहती है। माता अपने बालक के लिए निस्वार्थ भाव से उसकी देख रेख करती है। 

यही कारण है कि माँ के इस रिश्तें को आज भी संसार भर में सबसे अधिक सम्मानित तथा महत्वपूर्ण रिश्तों में से एक माना जाता है। माता जितना इस संसार में महान कोई और नहीं है। माता का अपने बालकों के प्रति जो त्याग होता है वह अमूल्य होता है। मां की ममता का कोई मोल नहीं है। 

मेरे जीवन में मेरी माँ का महत्त्व

मेरे को इस संसार में लाने वाली मेरी मां का मेरे जीवन में बहुत ही महत्व है। मेरी मां मेरे लिए सबसे ज्यादा पूजनीय है। जितना प्यार मेरी मां मुझे करती है उतना प्यार सायाद ही संसार में कोई मुझसे करता होगा। मेरे जीवन में मेरी मां की बहुत ज्यादा अहमियत है।

 मां के बिना मै इस संसार में कुछ भी नहीं हूं। मेरी मां ही मेरी जिंदगी की सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति है। मेरी मां भगवान का ही दूसरा स्वरूप है। मेरे जीवन में सबसे ज्यादा महत्व मेरी मां का है। 

मेरी माँ मेरी सबसे अच्छी मित्र | About Maa in Hindi

मेरी मां मेरी सबसे अच्छी मित्र है। मै हमेशा अपना सुख दुःख दोनों मां को बताती हूं। मेरी मां हमेशा मुझे सही सलाह देती है। मेरी मां मेरे सभी समस्याओं को सुलझाती है। मुझे जो भी जरूरत होती है मेरी मां मुझे हमेशा दिलाती है।

 मां एक मेरी सबसे अच्छी दोस्त है। वह मुझे कभी अकेला महसूस नहीं होने देती है। मां के जितना कोई दूसरा सहायक नहीं होता है। इसलिए मेरी मां मेरी सबसे अच्छी दोस्त है।

आदर्श जीवन के लिए मेरी माँ की शिक्षाएं

बचपन से ही मैंने सब कुछ अपने मां से सीखा है। माता ही हमारी सबसे पहली गुरु होती है। बचपन से लेकर बड़े होने तक माता सदैव हमें कुछ न कुछ नई शिक्षा प्रतिदिन देती रहती है।  मां के द्वारा दिए गए संस्कार हमें जीवन भर काम आते हैं।  बचपन से ही मां हमें क्या गलत है, क्या सही है इसमें फर्क करना सिखाती है।  मां के द्वारा  दी गई बचपन की वह शिक्षा  सदैव जीवन में मदद करती है।

मां हमें बचपन से ही मेहनत करना,  कभी हार ना मानना,  सही मार्ग पर चलना, अपनों से बड़ों की इज्जत करना, लोगों का मान सम्मान करना,  सबसे मिल जुल कर रहना,  दूसरों की मदद करना,  झूठ ना बोलना  ऐसी कई बातें मां हमें सिखाती है।

मां हमें यह सब कुछ खेल खेल में सिखा देती है ।   जब भी कोई गलती होती है तो मां हमें  माफ  करना  सिखाती है।  हम सब वही करते हैं जो हमने अपने माता-पिता से सीखा है।  इसलिए मेरे जीवन में मां की शिक्षा का बहुत ही ज्यादा महत्व है।  मेरे लिए मेरी मां की शिक्षा अनमोल है। 

मेरी माँ मेरी प्रेरणा है | About Maa in Hindi

मेरी सबसे बड़ी प्रेरणा मेरी मां है।  जब भी मैं उनको देखती हूं  हर पल मैं उनसे प्रेरणा लेती रहती हूं।  मैं जीवन में जो कुछ भी हासिल कर सकती ही वह सब कुछ मेरी मां की ही प्रेरणा होगी।  मेरी मां मुझे सदैव प्रेरित करती है कुछ अच्छा करने के लिए।  मेरी मां मेरे लिए प्रेरणा का स्रोत है।  वह हमेशा मुझे  साहसतथा आत्मविश्वास दिलाती हैं।  जब भी मैं किसी मुश्किल में पढ़ती हूं तो मेरी  मां के द्वारा दी गई प्रेरणा मेरे लिए बहुत ही ज्यादा  मददगार साबित होती है। 

मां के जैसा  इस दुनिया में कोई और नहीं  है।  इसलिए अपनी मां का सम्मान करना चाहिए।  उनके जीवन में खुशी ऐसा काम करें।  हर पल बने आप पर गर्व होना चाहिए।  उन्होंने जो आपके लिए  जो बलिदान  किया है वह कभी व्यर्थ नहीं होना चाहिए। 

अपने माता के द्वारा दिए गए वचनों का पालन करें। अपने मां के हर एक सपने को पूरा करना प्रत्येक बालक का कर्तव्य  है।  मेरे जीते जी मेरी मां को कभी कोई तकलीफ ना हो ऐसा काम करो।  अगर सेवा करनी है तो अपनी मां की करें।  जिन्होंने  बचपन से लेकर आज तक आपकी सेवा की।  मां अपने बालक से कभी कुछ नहीं मांगती।

  बस वह इतना चाहती है कि उसका  बालक हमेशा खुश रहे। मां की ममता की महिमा बहुत ही अधिक निराली है। आखिर इतना प्यार इस संसार में कोई और नहीं दे सकता  है। 

माँ ही है जो हमेशा अपने बालक को देती रहती है।  दूसरा इस संसार में कोई भी ऐसा नहीं होगा जो आपको सिर्फ देता हो  बदले में लेता ना हो। बालक की  लाख गलतियां कर देता है फिर भी मां हमेशा उसे माफ कर देती है।  बालक चाहे कैसा भी हो परंतु मां के लिए उसका बालक सर्वाधिक प्रिय होता है।

माँ हमें  कभी भी दुख में नहीं देखना चाहती है। वह अपने बालक को कभी भूखा नहीं रखती। मां स्वयं भूखी रहकर अपने बालक को भोजन कराती है।  मां इतना सब कुछ सहती है फिर भी किसी से कुछ भी नहीं कहती है। वह अपने दर्द को किसी को जाहिर नहीं होने देती है। मां अपना जीवन बालक को पल पोस कर बड़ा करने में लगा देती है। 

माँ अपने बालक को अपना ही अंग मानती है। इसलिए वह बालक से इतना लगाव रखती है। अगर बालक थोड़ा भी बीमार पड़ जाए तो कितने दिनों तक मां खाना नहीं खाती है। बालक के हर दर्द को मां महसूस कर लेती है। बालक को कोई पीड़ा ना हो इसके लिए वह सब कुछ संभव प्रयास करती है। वह अपने बालक को संसार की सारी खुशियां देना चाहती है।

इसलिए माँ तो माँ होती है उनके सामान कोई भी नहीं है। आपको ये आर्टिकल About Maa in Hindi कैसा लगा हमें कमेंट में जरूर बताये।
धन्यवाद।

Read more..

Share on

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *